Government Securities (सरकारी प्रतिभूतियाँ) –

सरकारी प्रतिभूतियाँ क्या हैं? RBI, भारतीय अर्थव्यवस्था को सुचारु रुप से चलाने के लिए, CRR, SLR, RRR जैसे कई तरह के मौद्रिक उपकरणों का प्रयोग करती है। सरकारी प्रतिभूतियाँ भी…

Continue ReadingGovernment Securities (सरकारी प्रतिभूतियाँ) –

संस्फिति (Reflation)- परिभाषा, कारण, प्रभाव, अंतर

"Hello Friends, इस लेख में "संस्फिति (Reflation)" के सभी पक्षों का वर्णन किया गया है। हम आशा करते हैं कि हमारा लिखने का तरीका आपको समझने मे सहायता करेगा। लेख…

Continue Readingसंस्फिति (Reflation)- परिभाषा, कारण, प्रभाव, अंतर

अवस्फिति (Disinflation)- परिभाषा, कारण और प्रभाव-

"Hello Friends, इस लेख में "अवस्फिति" (Disinflation) के सभी पक्षों का वर्णन किया गया है। हम आशा करते हैं कि हमारा लिखने का तरीका आपको समझने मे सहायता करेगा। लेख…

Continue Readingअवस्फिति (Disinflation)- परिभाषा, कारण और प्रभाव-

मुद्रा संकुचन (Deflation)- परिभाषा, कारण और प्रभाव-

"Hello Friends, इस लेख में "मुद्रा संकुचन अथवा अपस्फिति " (Deflation) के सभी पक्षों का वर्णन किया गया है। हम आशा करते हैं कि हमारा लिखने का तरीका आपको समझने…

Continue Readingमुद्रा संकुचन (Deflation)- परिभाषा, कारण और प्रभाव-

अर्थशास्त्र क्या है? ( What is Economics)

इस लेख में हम पढने वाले है कि "अर्थशास्त्र क्या है? इसकी उत्पत्ति कैसे हुई, इसके कितने भाग है।"

Continue Readingअर्थशास्त्र क्या है? ( What is Economics)

भारत में बैंकों के राष्ट्रीयकरण का इतिहास

राष्ट्रीयकरण से तात्पर्य एक ऐसी प्रक्रिया से है, जिसमें निजी इकाई को सरकार के स्वामित्व में ला दिया जाता है। आजादी के दौरान भारत में कार्यरत सभी बैंक निजी क्षेत्र के थे। बैंकिंग क्षेत्र में धोखाधड़ी चरम पर थी। बैंक जमा कर्ता की जमा राशि लेकर भाग जाते थे।

Continue Readingभारत में बैंकों के राष्ट्रीयकरण का इतिहास

भारत में बैंकों का इतिहास (History of indian banks)

"Hello Friends, इस लेख में "भारत में बैंकों का इतिहास" के सभी पक्षों का वर्णन किया गया है। हम आशा करते हैं कि हमारा लिखने का तरीका आपको समझने मे…

Continue Readingभारत में बैंकों का इतिहास (History of indian banks)